कहते हैं हर इंसान का अच्छा  वक़्त कभी ना कभी तो अच्छा आता है पर ये उस इंसान पर निर्भर करता है कि कितनी जल्दी वो सफलता के शिखर तक पहुँच पाता है सपनों के लिए मेहनत करते रहेंगे तो कामयाबी आपको ज़रूर मिलेगी ये साबित करके दिखाया है भारत के जाने माने क्रिकेट खिलाड़ी Virat Kohli ने |

Virat Kohli कैसे बने एक महान खिलाड़ी

आइए जानते है उनकी कामयाबी का सफर की कैसे एक साधारण परिवार में जन्मे विराट आज देश के सबसे बड़े क्रिकेट खिलाड़ियों में जाने जाते हैं

virat kohli

Virat Kohli का जन्म 5 नवम्बर 1988 को दिल्ली में हुआ था |

इनके पिता प्रेमजी कोहली एक वक़ील थे और इनकी माँ सरोज कोहली एक housewife थी।

विराट ने मात्र 3 साल की उम्र में ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था |

इनके खेल को देखकर ही इनके पिता ने इनको दिल्ली क्रिकेट अकादमी में भर्ती करा दिया और यही पर उनकी मुलाक़ात उनके गुरु राजकुमार शर्मा से हुई राजकुमार Virat Kohli को चीकू नाम से बुलाते थे ये नाम भी काफ़ी famous है उनका |

राजकुमार ने Virat Kohli का जीवन बदल दिया।

Virat Kohli की शुरुआती पढ़ाई विशाल भारती स्कूल से हुई और intermediate के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और अपना सारा ध्यान क्रिकेट पर लगा दिया।

December 2006 में उनके पिता की मौत के बाद उनको गहरा सदमा लगा वे उस वक़्त मात्र 18 साल के थे।

उनके पिता के support की वजह से ही वो क्रिकेट में थे इस घटना के बाद भी उन्होंने अपने आप को टूटने नहीं दिया और अपने मैच में अच्छी पारी खेली।

उनके इसी स्वभाव की वजह से आज वो एक महान खिलाड़ी हैं

Read More : अच्छी शख्सियत बनाने के 5 तरीके। Steps To Building A Positive Personality

Virat Kohli शुरुआत में अंडर 15 के लिए खेलते थे बाद में साल 2004 में उनका चयन अंडर 17 के लिए हो गया जहाँ पर उन्होंने बहुत बेहतरीन प्रदर्शन किया इसी के  चलते 2006 में उनको अंडर 19 के लिए चुना गया और उन्होंने अपना पहला विदेशी  मुक़ाबला इंग्लंड में खेला

December 2006 में वे जब उनके पिता की मौत हुई तब वे कर्नाटक के ख़िलाफ़ मैच खेल रहे थे।

लगातार बेहतरीन प्रदार्शन की वजह से उनको साल 2008 में अंडर 19में कैप्टन बनाया गया और इस विश्वकप में उनकी जीत ने उनका पूरा कैरियर बदल गया इस वक़्त तक वे काफ़ी famous हो चुके थे।

विराट ने साल 2008में श्रीलंका के ख़िलाफ़ अपने international करियर में डेब्यू किया इनके पहले मैच का score 12 रन था।

इसके बाद साल 2010 से इनको मौक़े मिलने लगे ओर अब ये भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान हैं |

इनके शतक लगाने के records सचिन तेंदुलकर से भी ज़्यादा तेज़ी से बन रहे है और ये सबसे तेज़ी से रन बनाने वाले खिलाड़ियों में से है ओर धीरेधीरे सारे records तोड़ रहे हैं।उम्मीद है की विराट भारतीय क्रिकेट को एक नया आयाम देंगे।

इनकी सफलता के पीछे कुछ मंत्र है जो हम यह शेयर कर रहें है

  1. ज़िम्मेदारी लेना
  2. सफलता के बारे में ज़्यादा नहीं सोचना
  3. ख़ुद पर भरोसा
  4. अपने आप में सुधार करते रहना
  5. परिस्थिति के हिसाब से अपने को ढाल लेना

कठिन मेहनत और ख़ुद पर भरोसे के कारण ही आज विराट इतने कामयाब है।

आज उनके देश में लाखों fans हैं और उनसे जुड़ी बातें काफ़ी popular होतीहै हाल ही में उनकी शादी प्रसिद्ध बॉलीवुड ऐक्ट्रेस अनुष्का शर्मा से हुई है।वे फ़िट्नेस पर भी बहुत ध्यान देते हैं।

उम्मीद करते है की आपको हमारी आज की ये post Virat Kohli कैसे बने एक महान खिलाड़ी पसंद आई होगी |आप हमारी इस Post को अपने Social Media पर शेयर जरुर करें | अगर आपको किसी तरह की Help चाहिए या आप अपना कोई Feedback हमे देना चाहते है तो आप Comment के जरिए आपके विचार हमसे Share कर सकते है | हमे ख़ुशी होगी |

Muchofsucess पर हम इसी तरह की intresting कहानी शेयर करते है तो अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी हो तो हमें subscribe ज़रूर करें।